HOME | Contact Us | Privacy Policy
 

निजीकरण का विरोध:लोको पायलट भूखे रहकर ट्रेन चला रहे
15 जुलाई 2019 14:44
नयी दिल्ली।ऑल इंडिया लोको रनिंग स्टाफ एसोसिएशन के कहने पर सभी पायलट सोमवार से भुखे रहकर ट्रेन चलाएंगे। ये विरोध बहुत सारी चीजों के बारे में है। भूख हड़ताल के अलावा, वे स्टेशन पर धरना प्रदर्शन भी करेंगे। 15 और 16 जुलाई को, अगर भूख हड़ताल के दौरान मांगों के संबंध में सभी कदम नहीं उठाए जाते हैं, तो ऑल इंडिया लोको रनिंग स्टाफ एसोसिएशन कड़े कदम उठा सकती है।

पायलट रनिंग भत्ते की मांग को लेकर लोग विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। रेलवे के निजीकरण और निगमीकरण की चर्चाओं को लेकर भी लोको पायलट परेशानी में हैं। हालांकि, रेल मंत्रालय को विश्वास है कि वे भावनात्मक भूख हड़ताल करके उसी का विरोध करेंगे।

गौरतलब है कि मोदी सरकार के हाल ही में पेश किए गए बजट में रेलवे ने पीपीपी के आधार पर निवेश बढ़ाने का सुझाव दिया है। हालांकि, रेल मंत्री ने निजीकरण की सभी आशंकाओं को नाकाम कर दिया है। रेल मंत्री पीयूष गोयल ने भी रेलवे के निजीकरण की आशंका को खारिज कर दिया। उन्होंने कहा कि किसी भी रेलवे का निजीकरण नहीं किया जा सकता है और इसका कोई मतलब नहीं है। उन्होंने कहा कि नरेंद्र मोदी सरकार ने सुविधाओं और निवेश को बढ़ाने के लिए सार्वजनिक-निजी भागीदारी (पीपीपी) को आमंत्रित करने का इरादा किया है।