janwarta logo
Today's E-Paper
 
Contact Us | Privacy Policy | Follow us on
facebook twitter google plus
16 अप्रैल 2021 Breaking News कोरोना से काशी बेहाल,2484 संक्रमित मरीज मिले, 5 की मौत  |  वाराणसी : कोरोना कर्फ्यू, रात्रिकालीन कर्फ्यू अब रात आठ बजे से सुबह सात बजे तक  |  वाराणसी: कोरोना को लेकर सरकार की नीति और नियत साफ नहीं -कांग्रेस  |  वाराणसी: होम आइसोलेशन में हैं तो आक्सीजन लेवल पर रखें नजर -डीएम  |  वाराणसी : विश्वेश्वरगंज की किराना मंडी में 19 से 24 तक लॉकडाउन
Ad cancer

New year

गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Republic day

 
ज्यादा पठित
पुरुष सैक्स के लिहाज से ज्यादा आकर्षक मानते हैं ऐसी महिलाओं को
'मस्तीजादे' में सनी लियोनी-तुषार करेंगे रोमांस!
महिला-पुरुष निर्वस्त्र पिटते रहे, पुलिस देखती रही
जम्मू के पुंछ सेक्टर में भारतीय सैनिकों पर नापाक हमला, 5 जवान शहीद
एजाज खान ने लगाया कॉमेडी नाइट्स विद कपिल पर गंभीर आरोप
तीन भाषाओं में रिलीज होगी रितिक-कट्रीना की 'बैंग बैंग'
मन्नत मांगने पर यहां घड़ी चढ़ाते हैं लोग
बेवफा और चालाक है सनी लियोन!
इस टीवी शो के जरिए अब छोटे पर्दे पर आग लगाएंगी सनी लियोन
विस चुनाव 2017 : सपा ने जारी की उम्मीदवारों की लिस्ट
काशी का यह शिव मंदिर है अद्भुत आश्चर्यजनक, शिव भक्त हैं तो जरूर जानें इसके बारे में
11 मार्च 2021 20:05
वाराणसी(जनवार्ता)।यह आश्चर्यजनक है,किंतु सत्य है काशी के कण कण में शंकर व्याप्त है, काशी के बारे में मान्यता है कि यह शिव को सबसे प्यारी है शिव सबसे अधिक समय तक काशी में ही वास करना पसंद करते हैं तभी तो काशी के गली गली घर-घर में भगवान भोलेनाथ के मंदिर हैं भगवान भोलेनाथ के प्रति लोगों की आस्था दीवानेपन तक है काशी विश्वनाथ मंदिर में प्रतिदिन लाखों लोग दर्शन करते हैं तो वही काशी में अनेक ऐसे शिव मंदिर हैं जो ऐतिहासिक तो है ही लेकिन उनमें से कुछ रहस्यमई भी है ऐसा ही एक मंदिर बाबा तिलभांडेश्वर नाम से प्रसिद्ध है इस मंदिर के बारे में मान्यता है कि यह का शिवलिंग प्रत्येक वर्ष एक तिल के बराबर बढ़ता है चित्र में आप खुद देख लीजिए उसके विकराल स्वरूप को।

सोनारपुरा क्षेत्र में बाबा तिलभांडेश्वर नाम से प्रसिद्ध है। ये मंदिर काशी के केदार खंड में स्थित, जहां बहुत ही अद्भुत स्वयंभू शिवलिंग स्थापित है।


कहा जाता है संपूर्ण काशी नगरी के कण-कण में साक्षात शिव जी का वास है। यहां स्थापित प्रत्येक शिव मंदिर से कोई न कोई खास बात जुड़ी हुई है। इन्हीं कारणों के चलते काशी को शिव जी की नगरी कहा जाता है। बता दें काशी में द्वादश ज्योतिर्लिंग काशी विश्वनाथ भी स्थापित है जिसके बारे में मान्यता प्रचलित हैं कि भोलेनाथ का निवास स्थान है। मगर आपको बता दें ऐसी ही कुछ काशी के तिलभाण्डेश्वर मंदिर के बारे में भी कुछ ऐसा ही कहा जाता है। बल्कि यहां इस बात को सच साबित करने वाला एक प्रमाण भी देखने को मिलता है। हम जानते हैं ये जानने के बाद आपकी इस मंदिर के बारे में जानने की इच्छा और भी बढ़ गई होगी। तो आपकी इस उत्सुकता का हल हमारे पास है। क्योंकि हम आपके लाएं हैं इस मंदिर से जुड़ी तमाम जानकारी।

तिलभांडेश्वर नामक शिवलिंग की खासियत ये है कि यह हर साल एक तिल के बराबर बढ़ता है। बता दें इस शिवलिंग का आकार काशी के तीन सबसे बड़े शिवलिंगों में से एक है जिसमें हर वर्ष तिल के समान की वृद्धि होती जा रही है। लोक मान्यता के अनुसार इस क्षेत्र की भूमि पर तिल की खेती होती थी। एक दिन अचानक तिल के खेतों के मध्य से शिवलिंग उत्पन्न हो गया। जब इस शिवलिंग को स्थानीय लोगों ने देखा तो पूजा-अर्चन करने के बाद तिल चढ़ाने लगे। मान्यता है कि तभी से इन्हें तिलभाण्डेश्वर कहा जाता है।

इनका आकार काशी के तीन सबसे बड़े शिवलिंगों में से एक है और हर वर्ष इसमें तिल भर की वृद्धि होती है। इस स्वयंभू शिवलिंग के बारे में वर्णित है कि प्राचीन काल में इस क्षेत्र की भूमि पर तिल की खेती होती थी। एक दिन अचानक तिल के खेतों के मध्य से शिवलिंग उत्पन्न हो गया, जिसकी स्थानीय लोगों द्वारा पूजा-अर्चना की गई। कहा जाता है इसके बाद से इस शिवलिंग की आराधना शुरु हो गई और इसे तिलभाण्डेश्वर कहा जाने लगा।

ऐसी मान्यता है इस शिवलिंग में स्वयं भगवान शिव विराजमान हैं। कुछ प्रचलित किंवदंतियों के अनुसार मुस्लिम शासन के दौरान मंदिरों को नष्ट करने की कोशिश की गई थी। जिसके तहत मंदिर को तीन बार मुस्लिम शासकों ने तबाह करवाने के लिए सैनिकों को भेजा। मगर हर बार कुछ न कुछ ऐसा घट गया कि सैनिकों को मुंह की खानी पड़ी।

कहा जाता है अंगेजी शासन के दौरान एक बार ब्रिटिश अधिकारियों ने शिवलिंग के आकार में बढ़ोत्तरी को परखने के लिए उसके चारों ओर धागा बांध दिया जो अगले दिन टूटा मिला। कुछ अन्य धार्मिक मान्यताओं के अनुसार प्राचीन समय में माता शारदा इस स्थान पर कुछ समय के लिए रूकी थीं। जिस कारम लोगों की इस मंदिर के प्रति आस्था अधिक गहरी है।

किवदंतियों के मुताबिक भगवान शिव का ये लिंग मकर संक्रांति के दिन एक तिल के आकार में बढ़ता है। जिसका शिव पुराण में भी ज़िक्र मिलता है। माना जाता है सैकड़ों वर्ष पहले मंदिर का निर्माण हुआ था।



#काशी #शिवलिंग #तिलभांडेश्वर #विशेश्वर #काशीविश्वनाथ #शिवरात्रि #शिव #वाराणसी #बनारस #काशीकेमंदिर #विश्वनाथ
 
AD

कोरोना
Covid

होली
Happy holi

 
ताज़ा खबर
वाराणसी : कोरोना कर्फ्यू, रात्रिकालीन कर्फ्यू अब रात आठ बजे से सुबह सात बजे तक
वाराणसी: होम आइसोलेशन में हैं तो आक्सीजन लेवल पर रखें नजर -डीएम
वाराणसी: कोरोना को लेकर सरकार की नीति और नियत साफ नहीं -कांग्रेस
वाराणसी : विश्वेश्वरगंज की किराना मंडी में 19 से 24 तक लॉकडाउन
कोरोना से काशी बेहाल,2484 संक्रमित मरीज मिले, 5 की मौत
वाराणसी : 1484 कोरोना पॉजिटिव मरीज, 6 की मौत
बीएचयू के कार्यालयों में आएंगे केवल 50 फीसद ही कर्मचारी, रोस्टर प्रणाली लागू
वाराणसी : कमिश्नरी एवं न्यायालय 20 अप्रैल तक बंद
वाराणसी: कमिश्नर की अपील- 'काशी आना अतिआवश्यक न हो तो न आएं'
काशी विश्वनाथ दरबार, अन्नपूर्णां और संकट मोचन दर्शन को आरटीपीसीआर निगेटिव की रिपोर्ट जरूरी
 
 
 फोटो गैलरी  और देखे
अंतर्राष्ट्रीय
International
अनुष्का, वरुण जैसे कलाकारों ने नागालैंड में कुत्ते के मांस के पर लगे प्रतिबंध पर दी प्रतिक्रिया
नवीन चित्र
Latest Pix
ऐश्वर्या राय बच्चन और आराध्या बच्चन की कोरोना रिपोर्ट आई पॉजिटिव
मनोरंजन
Entertainment
शमा सिकंदर को लॉकडाउन में भा रहा है वर्चुअल फोटोशूट
खेल
Sports
डेविड वॉर्नर की 'ताकतवर' सिक्सर ने उन्हें जमीन पर 'गिराया'
वाराणसी और आसपास
VARANASI AUR AASPAS
काशी विद्यापीठ शताब्दी वर्ष महोत्सव में नृत्य करती छात्रा
Cartoon Economic panchayat election
 वीडियो गैलरी
महेंद्र कपूर के सदाबहार गीत यहाँ सुनें
video
बाबा सहगल की वापसी, आया नया वीडियो
video
पाक से हुआ वीडियो वायरल देखे क्या कहा
video
100 किलो के ट्रेन के डिब्बों को खींचती एसयूवी कार
video
इंडिपेंडेंस डे रेसुर्जेन्से का ट्रेलर
video