janwarta logo
Today's E-Paper
 
Contact Us | Privacy Policy | Follow us on
facebook twitter google plus
16 अप्रैल 2021 Breaking News कोरोना से काशी बेहाल,2484 संक्रमित मरीज मिले, 5 की मौत  |  वाराणसी : कोरोना कर्फ्यू, रात्रिकालीन कर्फ्यू अब रात आठ बजे से सुबह सात बजे तक  |  वाराणसी: कोरोना को लेकर सरकार की नीति और नियत साफ नहीं -कांग्रेस  |  वाराणसी: होम आइसोलेशन में हैं तो आक्सीजन लेवल पर रखें नजर -डीएम  |  वाराणसी : विश्वेश्वरगंज की किराना मंडी में 19 से 24 तक लॉकडाउन
Ad cancer

New year

गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Republic day

 
ज्यादा पठित
पुरुष सैक्स के लिहाज से ज्यादा आकर्षक मानते हैं ऐसी महिलाओं को
'मस्तीजादे' में सनी लियोनी-तुषार करेंगे रोमांस!
महिला-पुरुष निर्वस्त्र पिटते रहे, पुलिस देखती रही
जम्मू के पुंछ सेक्टर में भारतीय सैनिकों पर नापाक हमला, 5 जवान शहीद
एजाज खान ने लगाया कॉमेडी नाइट्स विद कपिल पर गंभीर आरोप
तीन भाषाओं में रिलीज होगी रितिक-कट्रीना की 'बैंग बैंग'
मन्नत मांगने पर यहां घड़ी चढ़ाते हैं लोग
बेवफा और चालाक है सनी लियोन!
इस टीवी शो के जरिए अब छोटे पर्दे पर आग लगाएंगी सनी लियोन
विस चुनाव 2017 : सपा ने जारी की उम्मीदवारों की लिस्ट
चंदौली : कोबरा बटालियन के कमांडो शहीद धर्मदेव के पार्थिव शरीर पर श्रद्धांजलि देने को उमड़ा जन सैलाब
06 अप्रैल 2021 19:45
चंदौली। छत्तीसगढ़ के बीजापुर में नक्सली हमले में चंदौली के लाल शहीद कोबरा बटालियन के कमांडो धर्मदेव के परिजन आखिरकार अंतिम संस्कार के लिए राजी हो गए। शाम को वाराणसी के मणिकर्णिका घाट पर अंतिम संस्कार किया गया। इस दौरान गांव के हजारों लोगों ने शहीद को नम आंखों से श्रद्धांजलि दी। प्रशासनिक अधिकारियों के काफी मनाने के बाद परिजन माने। डीएम और एसपी ने बेसुध पड़े पिता और भाई को समझाया। इस दौरान शहीद के गांव बड़ागांव थाना क्षेत्र के ठेकहां में धर्मदेव को गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया। 



दरअसल, शहीद धर्मदेव कुमार का पार्थिव शरीर आज सुबह 10:20 बजे बड़ागांव थाना क्षेत्र के गांव ठेकहां पहुंचा था। शहीद के पार्थिव शरीर को उनके घर के आगे मैदान में रखा गया। लेकिन कई घंटों तक शहीद धर्मदेव के माता-पिता और पत्नी सहित परिवार में से कोई भी सदस्य शहीद को देखने नहीं आया।  परिजन मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और रक्षामंत्री राजनाथ सिंह को बुलाने की मांग पर अड़े हुए थे। वहीं मौके पर स्थानीय विधायक और सांसद के नहीं पहुंचने पर ग्रामीण और ज्यादा आक्रोशित हो गए थे। शहीद का पार्थिव शरीर कई घंटे तक गांव के चौराहे पर रखा रहा था। मौके पर जिला अधिकारी संजीव सिंह, एसपी अमित कुमार सहित आला अधिकारी पहुंचे। कई घंटों तक अधिकारियों ने मनाया। आखिरकार मुख्यमंत्री से मिलाने का आश्वासन मिलने पर दोपहर बाद परिजन मान गए।