janwarta logo
Today's E-Paper
 
Contact Us | Follow us on
facebook twitter google plus Blogspot
26 मई 2018 Breaking News
 
ज्यादा पठित
पुरुष सैक्स के लिहाज से ज्यादा आकर्षक मानते हैं ऐसी महिलाओं को
'मस्तीजादे' में सनी लियोनी-तुषार करेंगे रोमांस!
महिला-पुरुष निर्वस्त्र पिटते रहे, पुलिस देखती रही
जम्मू के पुंछ सेक्टर में भारतीय सैनिकों पर नापाक हमला, 5 जवान शहीद
एजाज खान ने लगाया कॉमेडी नाइट्स विद कपिल पर गंभीर आरोप
तीन भाषाओं में रिलीज होगी रितिक-कट्रीना की 'बैंग बैंग'
मन्नत मांगने पर यहां घड़ी चढ़ाते हैं लोग
बेवफा और चालाक है सनी लियोन!
इस टीवी शो के जरिए अब छोटे पर्दे पर आग लगाएंगी सनी लियोन
विस चुनाव 2017 : सपा ने जारी की उम्मीदवारों की लिस्ट
मन्नत मांगने पर यहां घड़ी चढ़ाते हैं लोग
17 जुलाई 2014 20:12
Share
share on whatsapp
  लोग अलग, भाषाएं अलग, चेहरे अलग, परंपराएं अलग होना कोई नई बात नहीं है लेकिन बात जब भगवान की आती है तो पूजा विधि और प्रसाद जैसी चीजें जगह और पसंद के अनुसार नहीं बदलतीं। हर धर्म में भगवान की पूजा एक विधान है और हर कोई उसका ही पालन करता है। खासकर हिंदू धर्म में पूजा और उसमें चढ़ाए जाने वाले प्रसाद का बहुत अधिक महत्व है। भगवान को चढ़ाए प्रसाद को आशीर्वाद स्वरूप लोग खाते हैं और इच्छा पूर्ण होने की कामना करते हैं। अलग-अलग प्रकार की पूजा में प्रसाद भी अलग-अलग होते हैं लेकिन आज तक आपने भगवान को प्रसाद रूप में घड़ी नहीं चढ़ाई होगी। सुनकर थोड़ा अजीब लगता है कि भगवान को प्रसाद में घड़ी !!..लेकिन यह सच हमारे भारत में ही एक ऐसी जगह है जहां भगवान को प्रसाद में फल और मेवे नहीं बल्कि दीवार घड़ी चढ़ाई जाती है।
उत्तर प्रदेश में जौनपुर के पास एक मंदिर है ब्रह्म बाबा का मंदिर। कहते हैं इस मंदिर में मांगी हर मुराद पूरी होती है लेकिन इसके अलावे यह मंदिर खासकर इसलिए प्रसिद्ध है क्योंकि यहां पूजा में प्रसाद नहीं घड़ी चढ़ाई जाती है वह भी पूरे विधि-विधान के साथ। आश्चर्यजनक है लेकिन इसके पीछे भी एक दिलचस्प कहानी है। इस मंदिर में मन्नत मांगने और उसके पूरा होने पर घड़ी चढ़ाने की परंपरा मात्र 30 साल पुरानी है और इसका श्रेय एक ट्रक ड्राइवर को जाता है। स्थानीय लोगों की मान्यता है 30 साल पहले ब्रह्म बाबा के इस मंदिर में एक ट्रक ड्राइवर ने ड्राइविंग सीखने की मन्नत मांगी थी। मन्नत में उसने ड्राइविंग सीख लेने पर दीवार घड़ी चढ़ाने की बात कही थी। लोग कहते हैं मन्नत के कुछ ही दिनों में वह ड्राइविंग सीख गया और पहली बार उसी ने मंदिर की दीवार पर प्रसाद के रूप में घड़ी लगाई। तब से यह यहां की परंपरा बन गई। इसी परंपरा के कारण लोग इसे घड़ी बाबा का मंदिर भी कहते हैं। लोगों में इसकी मान्यता इतनी ज्यादा है कि खुले परिसर में दीवार घडि़यां होने के बावजूद कोई उसे उतारने की हिम्मत नहीं जुटाता।
 
 
ताज़ा खबर
मिर्जापुर में प्रेमी युगल ने खाया जहर,प्रेमी की मृत्यु
इलाहाबाद में दिन दहाड़े अधिवक्ता की हत्या के मामले में एसएसपी काे हटाया
मोदी ने दिया जनकपुर के विकास के लिए सौ करोड़ का तोहफा
दो माह में यौन उत्पीड़न निरोधक समिति गठित करें जिला न्यायालय: सुप्रीम कोर्ट
दलितों ने भी लिया धरोहरों व मंदिरों को बचाने का संकल्प
काशी विश्वनाथ कारिडोर :हाईकोर्ट गंभीर ,जनहित याचिका पर सुनवाई होगी
लोकसभा चुनाव के बाद तय होगा प्रधानमंत्री:अखिलेश
कर्नाटक विधानसभा चुनाव के लिए प्रचार समाप्त
चालू वित्तीय वर्ष में रेलवे में 1.48 लाख करोड़ रुपये का निवेश :मनोज सिन्हा
आंधी तूफान से आठ लोगों की मृत्यु, कई घायल
 
 
 फोटो गैलरी  और देखे
शोरूम से
From Showroom
नयी कावासाकी वेर्सिस एक्स 300
अंतर्राष्ट्रीय
International
अदाए ऐसी जो दीवाना बना दे
नवीन चित्र
Latest Pix
कुछ ना कहो. कुछ यही बया कर रही राहुल की यह तस्वीर
मनोरंजन
Entertainment
कार ऐसी की देख के मन कर जाये ड्राईवरिंग का
खेल
Sports
करतब देख छूटेंगे पसीने
VARANASI AUR AASPAS Cartoon Economic panchayat election
 वीडियो गैलरी
महेंद्र कपूर के सदाबहार गीत यहाँ सुनें
video
बाबा सहगल की वापसी, आया नया वीडियो
video
पाक से हुआ वीडियो वायरल देखे क्या कहा
video
100 किलो के ट्रेन के डिब्बों को खींचती एसयूवी कार
video
इंडिपेंडेंस डे रेसुर्जेन्से का ट्रेलर
video