janwarta logo
Today's E-Paper
 
Contact Us | Follow us on
facebook twitter google plus Blogspot
15 नवम्बर 2019 Breaking News
कार्तिक पूर्णिमा देवदीपावली
Kartik poornima/devdeepawali
काशी कार्तिक पूर्णिमा देवदीपावली

 
ज्यादा पठित
पुरुष सैक्स के लिहाज से ज्यादा आकर्षक मानते हैं ऐसी महिलाओं को
'मस्तीजादे' में सनी लियोनी-तुषार करेंगे रोमांस!
महिला-पुरुष निर्वस्त्र पिटते रहे, पुलिस देखती रही
जम्मू के पुंछ सेक्टर में भारतीय सैनिकों पर नापाक हमला, 5 जवान शहीद
एजाज खान ने लगाया कॉमेडी नाइट्स विद कपिल पर गंभीर आरोप
तीन भाषाओं में रिलीज होगी रितिक-कट्रीना की 'बैंग बैंग'
मन्नत मांगने पर यहां घड़ी चढ़ाते हैं लोग
बेवफा और चालाक है सनी लियोन!
इस टीवी शो के जरिए अब छोटे पर्दे पर आग लगाएंगी सनी लियोन
विस चुनाव 2017 : सपा ने जारी की उम्मीदवारों की लिस्ट
मन्नत मांगने पर यहां घड़ी चढ़ाते हैं लोग
17 जुलाई 2014 20:12
Share
share on whatsapp
  लोग अलग, भाषाएं अलग, चेहरे अलग, परंपराएं अलग होना कोई नई बात नहीं है लेकिन बात जब भगवान की आती है तो पूजा विधि और प्रसाद जैसी चीजें जगह और पसंद के अनुसार नहीं बदलतीं। हर धर्म में भगवान की पूजा एक विधान है और हर कोई उसका ही पालन करता है। खासकर हिंदू धर्म में पूजा और उसमें चढ़ाए जाने वाले प्रसाद का बहुत अधिक महत्व है। भगवान को चढ़ाए प्रसाद को आशीर्वाद स्वरूप लोग खाते हैं और इच्छा पूर्ण होने की कामना करते हैं। अलग-अलग प्रकार की पूजा में प्रसाद भी अलग-अलग होते हैं लेकिन आज तक आपने भगवान को प्रसाद रूप में घड़ी नहीं चढ़ाई होगी। सुनकर थोड़ा अजीब लगता है कि भगवान को प्रसाद में घड़ी !!..लेकिन यह सच हमारे भारत में ही एक ऐसी जगह है जहां भगवान को प्रसाद में फल और मेवे नहीं बल्कि दीवार घड़ी चढ़ाई जाती है।
उत्तर प्रदेश में जौनपुर के पास एक मंदिर है ब्रह्म बाबा का मंदिर। कहते हैं इस मंदिर में मांगी हर मुराद पूरी होती है लेकिन इसके अलावे यह मंदिर खासकर इसलिए प्रसिद्ध है क्योंकि यहां पूजा में प्रसाद नहीं घड़ी चढ़ाई जाती है वह भी पूरे विधि-विधान के साथ। आश्चर्यजनक है लेकिन इसके पीछे भी एक दिलचस्प कहानी है। इस मंदिर में मन्नत मांगने और उसके पूरा होने पर घड़ी चढ़ाने की परंपरा मात्र 30 साल पुरानी है और इसका श्रेय एक ट्रक ड्राइवर को जाता है। स्थानीय लोगों की मान्यता है 30 साल पहले ब्रह्म बाबा के इस मंदिर में एक ट्रक ड्राइवर ने ड्राइविंग सीखने की मन्नत मांगी थी। मन्नत में उसने ड्राइविंग सीख लेने पर दीवार घड़ी चढ़ाने की बात कही थी। लोग कहते हैं मन्नत के कुछ ही दिनों में वह ड्राइविंग सीख गया और पहली बार उसी ने मंदिर की दीवार पर प्रसाद के रूप में घड़ी लगाई। तब से यह यहां की परंपरा बन गई। इसी परंपरा के कारण लोग इसे घड़ी बाबा का मंदिर भी कहते हैं। लोगों में इसकी मान्यता इतनी ज्यादा है कि खुले परिसर में दीवार घडि़यां होने के बावजूद कोई उसे उतारने की हिम्मत नहीं जुटाता।
 
AD

दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं
Happy deepawali

 
ताज़ा खबर
काशी की गंगा जमुनी तहजीब मिसाल है
कौशल राज शर्मा अब होंगे वाराणसी के जिलाधिकारी, 25 आईएएस के तबादले,देखें पूरी लिस्ट
वाराणसी के एसएसपी का स्थानांतरण, प्रभाकर चौधरी अब संभालेंगे कार्यभार
धनतेरस के दिन लूट व हत्या,एसएसपी पर पथराव,घायल
गौरांग राठी नगर आयुक्त तथा मधुसूदन नागराज वाराणसी के सीडीओ होंगे
"भज विश्वनाथम्" है श्री काशी विश्वनाथ मंदिर की सचित्र गाथा
डीएल-आरसी नही तो भी तत्काल चालान नही काट सकती पुलिस,जाने नियम
वाराणसी:गंगा और वरुणा में बाढ़ की स्थिति सीएम ने लिया जायजा
वाराणसी:मुख्यमंत्री ने स्थलीय निरीक्षण कर निर्माणाधीन परियोजनाओं के प्रगति को देखा
विकास एवं निर्माण कार्यों की साप्ताहिक, पाक्षिक, मासिक समीक्षा हो-योगी
 
 
 फोटो गैलरी  और देखे
अंतर्राष्ट्रीय
International
PM मोदी स्वागत समारोह में न्यूजीलैंड के प्रधानमंत्री श्री जॉन की का स्वागत करते हुए।
नवीन चित्र
Latest Pix
संस्कार ब्राह्मण महिला संगठन की ओर से तीज महोत्सव
मनोरंजन
Entertainment
100 करोड़ क्लब में शामिल हुई मलयालम फिल्म 'पुलीमुरुगन'
खेल
Sports
डेविड वॉर्नर की 'ताकतवर' सिक्सर ने उन्हें जमीन पर 'गिराया'
वाराणसी और आसपास
VARANASI AUR AASPAS
वाराणसी में गड्ढे या गड्ढे में बनारस
Cartoon Economic panchayat election
 वीडियो गैलरी
महेंद्र कपूर के सदाबहार गीत यहाँ सुनें
video
बाबा सहगल की वापसी, आया नया वीडियो
video
पाक से हुआ वीडियो वायरल देखे क्या कहा
video
100 किलो के ट्रेन के डिब्बों को खींचती एसयूवी कार
video
इंडिपेंडेंस डे रेसुर्जेन्से का ट्रेलर
video