janwarta logo
Today's E-Paper
 
Contact Us | Follow us on
facebook twitter google plus Blogspot
21 मई 2019 Breaking News ओमप्रकाश राजभर को ले कर अनिल राजभर ने दिया बयान, कहा- मर्यादा कर रहे थे उल्लंघन  |  प्रत्याशियों के भाग्य ईवीएम में कैद, दिनभर किसे कितने मिले मत चर्चा होती रही  |  ईवीएम स्ट्रांग रूम की अभेद है सुरक्षा, चप्पे-चप्पे पर है निगाहबानी  |  सीएम योगी के मंत्रालय से ओम प्रकाश राजभर के साथ कई विभाग से 7 और लोगों की छुट्टी  |  बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष का ओमप्रकाश राजभर को बर्खास्तगी पर किया बड़ा खुलासा, कहा ये-
 
ज्यादा पठित
पुरुष सैक्स के लिहाज से ज्यादा आकर्षक मानते हैं ऐसी महिलाओं को
'मस्तीजादे' में सनी लियोनी-तुषार करेंगे रोमांस!
महिला-पुरुष निर्वस्त्र पिटते रहे, पुलिस देखती रही
जम्मू के पुंछ सेक्टर में भारतीय सैनिकों पर नापाक हमला, 5 जवान शहीद
एजाज खान ने लगाया कॉमेडी नाइट्स विद कपिल पर गंभीर आरोप
तीन भाषाओं में रिलीज होगी रितिक-कट्रीना की 'बैंग बैंग'
मन्नत मांगने पर यहां घड़ी चढ़ाते हैं लोग
बेवफा और चालाक है सनी लियोन!
इस टीवी शो के जरिए अब छोटे पर्दे पर आग लगाएंगी सनी लियोन
विस चुनाव 2017 : सपा ने जारी की उम्मीदवारों की लिस्ट
शिक्षक दिवस : भारतीय इतिहास के पन्नों में 10 गुरुओं की महानता
04 सितम्बर 2018 19:58
Share
share on whatsapp
  5 सितंबर को शिक्षक दिवस है। इस दिन जीवन को बेहतर बनाने, अज्ञान को खत्म करने और मानवता का पाठ पढ़ाकर इंसान को सही मायनों में इंसान बनाने वाले अध्यापकों को याद किया जाता है। प्राचीन काल से ही गुरूओं का स्थान सबसे ऊपर रहा है. प्राचीन काल के कई गुरूओं की विचारधारा को आज भी लोग अनुसरण करते हैं. कण्व, भारद्वाज, वेदव्यास, अत्रि से लेकर वल्लभाचार्य, गोविंदाचार्य, गजानन महाराज, तुकाराम, ज्ञानेश्वर आदि सभी अपने काल के महान गुरु थे, आइए जानते हैं इस दस महान गुरुओं का संक्षिप्त परिचय…
1. चाणक्य:
आचार्य विष्णु गुप्त यानी चाणक्य यानी चणक। चाणक्य को कौन नहीं जानता कलिकाल के सबसे श्रेष्ठ गुरु जिन्होंने भारत को एकसूत्र में बांध दिया था। दुनिया के सबसे पहले राजनीतिक षड्‍यंत्र के रचयिता आचार्य चाणक्य ने चंद्रगुप्त मौर्य जैसे साधारण भारतीय युवक को सिकंदर और धनानंद जैसे महान सम्राटों के सामने खड़ाकर कूटनीतिक युद्ध कराए। -चंद्रगुप्त मौर्य को अखंड भारत का सम्राट बनाया। पहली बार छोटे-छोटे जनपदों और राज्यों में बंटे भारत को एकसूत्र में बांधने का कार्य आचार्य चाणक्य ने किया था। वे मूलत: अर्थशास्त्र के शिक्षक थे लेकिन उनकी असाधारण राजनीतिक समझ के कारण वे बहुत बड़े रणनीतिकार माने गए।
2. आद्य शंकराचार्य:
स्वामी शंकराचार्य ने भारत की बिखरी हुई संत परंपरा को एकजुट कर दसनामी संप्रदाय का गठन किया और भारत के चारों कोने में 4 मठों की स्थापना की। उन्होंने ही हिंदुओं के चार धामों का पुन: निर्माण कराया और सभी तीर्थों को पुनर्जीवित किया। शंकराचार्य हिंदुओं के महान गुरु हैं। उनके हजारों शिष्य थे और उन्होंने देश-विदेश में भ्रमण करके हिंदू धर्म और संस्कृति का प्रचार प्रसार किया।
3. स्वामी समर्थ रामदास:
आस्वामी समर्थ रामदास छत्रपति शिवाजी के गुरु थे। उन्होंने ही देशभर में अखाड़ों का निर्माण किया था। महाराष्ट्र में उन्होंने रामभक्ति के साथ हनुमान भक्ति का भी प्रचार किया। हनुमान मंदिरों के साथ उन्होंने अखाड़े बनाकर महाराष्ट्र के सैनिकीकरण की नींव रखी, जो राज्य स्थापना में बदली। संत तुकाराम ने स्वयं की मृत्युपूर्व शिवाजी को कहा कि अब उनका भरोसा नहीं अतः आप समर्थ में मन लगाएँ। तुकाराम की मृत्यु बाद शिवाजी ने समर्थ का शिष्यत्व ग्रहण किया।
4. रामकृष्ण परमहंस:
स्वामी विवेकानंद के गुरु आचार्य रामकृष्ण परमहंस भक्तों की श्रेणी में श्रेष्ठ माने गए हैं। मां काली के भक्त श्री परमहंस प्रेममार्गी भक्ति के समर्थक थे। ऐसा माना जाता है कि समाधि की अवस्था में वे मां काली से साक्षात वार्तालाप किया करते थे। उन्हीं की शिक्षा और ज्ञान से स्वामी विवेकानंद ने दुनिया में हिंदू धर्म की पताका फहराई।
5. गुरु वशिष्ठ
राजा दशरथ के कुलगुरु ऋषि वशिष्ठ को कौन नहीं जानता। ये दशरथ के चारों पुत्रों के गुरु थे। वशिष्ठ के कहने पर दशरथ ने अपने चारों पुत्रों को ऋषि विश्वामित्र के साथ आश्रम में राक्षसों का वध करने के लिए भेज दिया था। कामधेनु गाय के लिए वशिष्ठ और विश्वामित्र में युद्ध भी हुआ था। वशिष्ठ ने राजसत्ता पर अंकुश का विचार दिया तो उन्हीं के कुल के मैत्रावरुण वशिष्ठ ने सरस्वती नदी के किनारे सौ सूक्त एक साथ रचकर नया इतिहास बनाया।
6. विश्वामित्र
विश्वामित्र ऋषि होने के पूर्व विश्वामित्र राजा थे और ऋषि वशिष्ठ से कामधेनु गाय को हड़पने के लिए उन्होंने युद्ध किया था, लेकिन वे हार गए। इस हार ने ही उन्हें घोर तपस्या के लिए प्रेरित किया। विश्वामित्र की तपस्या और मेनका द्वारा उनकी तपस्या भंग करने की कथा जगत प्रसिद्ध है। विश्वामित्र ने अपनी तपस्या के बल पर त्रिशंकु को सशरीर स्वर्ग भेज दिया था, लेकिन स्वर्ग में उन्हें जगह नहीं मिली तो विश्वामित्र ने एक नए स्वर्ग की रचना कर डाली थी। इस तरह ऋषि विश्वामित्र के असंख्य किस्से हैं।
7. परशुराम
परशुराम जब एक बार गणेशजी ने परशुराम को शिव दर्शन से रोक लिया तो रुष्ट परशुराम ने उन पर परशु प्रहार कर दिया जिससे गणेशजी का एक दाँत नष्ट हो गया और वे एकदंत कहलाए। जनक, दशरथ आदि राजाओं का उन्होंने समुचित सम्मान किया। सीता स्वयंवर में श्रीराम का अभिनंदन किया। कौरव-सभा में कृष्ण का समर्थन किया। असत्य वाचन करने के दंडस्वरूप कर्ण को सारी विद्या विस्मृत हो जाने का श्राप दिया था। उन्होंने भीष्म, द्रोण व कर्ण को शस्त्रविद्या प्रदान की थी। इस तरह परशुराम के अनेक किस्से हैं।
8. शौनक
शौनक ने 10 हजार विद्यार्थियों के गुरुकुल को चलाकर कुलपति का विलक्षण सम्मान हासिल किया और किसी भी ऋषि ने ऐसा सम्मान पहली बार हासिल किया। वैदिक आचार्य और ऋषि जो शुनक ऋषि के पुत्र थे। फिर से बताएं तो वशिष्ठ, विश्वामित्र, कण्व, भारद्वाज, अत्रि, वामदेव और शौनक- ये हैं वे सात ऋषि जिन्होंने इस देश को इतना कुछ दे डाला कि कृतज्ञ देश ने इन्हें आकाश के तारामंडल में बिठाकर एक ऐसा अमरत्व दे दिया कि सप्तर्षि शब्द सुनते ही हमारी कल्पना आकाश के तारामंडलों पर टिक जाती है।
9. द्रोणाचार्य
द्रोणाचार्य द्वापर युग में कौरवों और पांडवों के गुरु रहे द्रोणाचार्य भी श्रेष्ठ शिक्षकों की श्रेणी में काफी सम्मान से गिने जाते हैं। द्रोणाचार्य अपने युग के श्रेष्ठतम शिक्षक थे। द्रोणाचार्य भारद्वाज मुनि के पुत्र थे। ये संसार के श्रेष्ठ धनुर्धर थे। माना जाता है कि द्रोण का जन्म उत्तराखंड की राजधानी देहरादून में बताया जाता है, जिसे हम देहराद्रोण (मिट्टी का सकोरा) भी कहते थे। द्रोणाचार्य का विवाह कृपाचार्य की बहन कृपि से हुआ जिनसे उन्हें अश्वत्थामा नामक पुत्र मिला। गुरु द्रोण ने पांडु पुत्रों और कौरवों को धनुर्धर की शिक्षा दी। द्रोण के हजारों शिष्य थे जिनमें
अर्जुन को उन्होंने विश्व का सर्वश्रेष्ठ धनुर्धर होने का वरदान दिया।
10. महर्षि सांदीपनि
महर्षि सांदीपनि भगवान कृष्ण, बलराम और सुदामा के गुरु थे महर्षि सांदीपनि। इनका आश्रम आज भी मध्यप्रदेश के उज्जैन में है। सांदीपनि के गुरुकुल में कई महान राजाओं के पुत्र पढ़ते थे। श्रीकृष्णजी की आयु उस समय 18 वर्ष की थी और वे उज्जयिनी के सांदीपनि ऋषि के आश्रम में रहकर उनसे शिक्षा प्राप्त कर चुके थे।-सांदीपनि ने भगवान श्रीकृष्ण को 64 कलाओं की शिक्षा दी थी। भगवान विष्णु के पूर्ण अवतार श्रीकृष्ण ने सर्वज्ञानी होने के बाद भी सांदीपनि ऋषि से शिक्षा ग्रहण की और ये साबित किया कि कोई इंसान कितना भी प्रतिभाशाली या गुणी क्यों न हो, उसे जीवन में फिर भी एक गुरु की आवश्यकता होती ही है।
 
AD

 
ताज़ा खबर
क्यों ट्रोल हो रहे विवेक ओबेरॉय? राष्ट्रीय महिला आयोग ने दिखाई सख्ती, क्या है पूरा माज़रा-
क्रिकेट: भारत तीसरी बार बन सकता है वर्ल्ड चैंपियन, ये रहे कारण
ओमप्रकाश राजभर को ले कर अनिल राजभर ने दिया बयान, कहा- मर्यादा कर रहे थे उल्लंघन
बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष का ओमप्रकाश राजभर को बर्खास्तगी पर किया बड़ा खुलासा, कहा ये-
प्रत्याशियों के भाग्य ईवीएम में कैद, दिनभर किसे कितने मिले मत चर्चा होती रही
वाराणसी आये क्रिकेटर इशांत शर्मा ने कहा- घाट पर बैठ गंगा को निहारने पर मिलती है सुखद अनुभूति
मतदान करने में वाराणसी के शिक्षित इलाके रहे फिसड्डी, सबसे काम वोट पड़े यहां
सीएम योगी के मंत्रालय से ओम प्रकाश राजभर के साथ कई विभाग से 7 और लोगों की छुट्टी
ईवीएम स्ट्रांग रूम की अभेद है सुरक्षा, चप्पे-चप्पे पर है निगाहबानी
पश्चिम बंगाल में जानिए क्या कहता है एग्जिट पोल
 
 
 फोटो गैलरी  और देखे
अंतर्राष्ट्रीय
International
PM मोदी स्वागत समारोह में न्यूजीलैंड के प्रधानमंत्री श्री जॉन की का स्वागत करते हुए।
नवीन चित्र
Latest Pix
संस्कार ब्राह्मण महिला संगठन की ओर से तीज महोत्सव
मनोरंजन
Entertainment
100 करोड़ क्लब में शामिल हुई मलयालम फिल्म 'पुलीमुरुगन'
खेल
Sports
डेविड वॉर्नर की 'ताकतवर' सिक्सर ने उन्हें जमीन पर 'गिराया'
वाराणसी और आसपास
VARANASI AUR AASPAS
वाराणसी में गड्ढे या गड्ढे में बनारस
Cartoon Economic panchayat election
 वीडियो गैलरी
महेंद्र कपूर के सदाबहार गीत यहाँ सुनें
video
बाबा सहगल की वापसी, आया नया वीडियो
video
पाक से हुआ वीडियो वायरल देखे क्या कहा
video
100 किलो के ट्रेन के डिब्बों को खींचती एसयूवी कार
video
इंडिपेंडेंस डे रेसुर्जेन्से का ट्रेलर
video