janwarta logo
Today's E-Paper
 
Contact Us | Follow us on
facebook twitter google plus Blogspot
05 अप्रैल 2020 Breaking News कोरोना से पहली मौत के बाद वाराणसी के गंगापुर ,बजरडीहा, मदनपुरा,लोहता क्षेत्र में कर्फ्यू
 
ज्यादा पठित
पुरुष सैक्स के लिहाज से ज्यादा आकर्षक मानते हैं ऐसी महिलाओं को
'मस्तीजादे' में सनी लियोनी-तुषार करेंगे रोमांस!
महिला-पुरुष निर्वस्त्र पिटते रहे, पुलिस देखती रही
जम्मू के पुंछ सेक्टर में भारतीय सैनिकों पर नापाक हमला, 5 जवान शहीद
एजाज खान ने लगाया कॉमेडी नाइट्स विद कपिल पर गंभीर आरोप
तीन भाषाओं में रिलीज होगी रितिक-कट्रीना की 'बैंग बैंग'
मन्नत मांगने पर यहां घड़ी चढ़ाते हैं लोग
बेवफा और चालाक है सनी लियोन!
इस टीवी शो के जरिए अब छोटे पर्दे पर आग लगाएंगी सनी लियोन
विस चुनाव 2017 : सपा ने जारी की उम्मीदवारों की लिस्ट
मोबाइल टावर के ज्यादा रेडिएशन से विलुप्त हुईं 90 फीसदी मधुमक्खियां
19 फरवरी 2020 17:23
Share
share on whatsapp
  अलीगढ़।संचार उपकरणों के बिना आज जीवन जीने की कल्पना करना ही बेमानी सा है, लेकिन इनके बढ़ते उपयोग के साथ ही प्रकृति पर इनके दुष्प्रभाव भी बढ़ रहे हैं। हाल ही में एक शोध में सामने आया कि मोबाइल टावर से निकलने वाले रेडिएशन के कारण क्षेत्र विशेष में 70 से 90 फीसदी तक मधुमक्खियां विलुप्त हो गई हैं।
उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय (एएमयू) में वन्य जीव विभाग की ओर से जनवरी में पूरे किए गए तीन साल तक चले शोध के अनुसार, इनके प्रभाव सिर्फ पशु-पक्षियों पर ही नहीं बल्कि अन्य जीवों पर भी देखने को मिल रहे हैं। ' इलेक्ट्रो मैग्नेटिक विकिरणों का पक्षियों पर असर' विषयक शोध के निष्कर्षों में बताया गया है कि मोबाइल टावर से निकलने वाले इलेक्ट्रो मैग्नेटिक विकिरणों के कारण मधुमक्खियों में कॉलोनी कोलेप्स डिसॉर्डर नामक अवसाद पैदा हो रहा है। इससे उन्हें उड़ने में परेशानी हो रही है। उनका एक साथ चलने का क्रम टूट गया है। वे रास्ता भटकते हुए धीरे-धीरे विलुप्त होती जा रही हैं।
शोध के निर्देशक एवं विभागाध्यक्ष प्रोफेसर अफीफुल्लाह खान ने बताया कि अलीगढ़ समेत आसपास के शहरी व ग्रामीण क्षेत्र में तीन साल तक यह शोध किया गया। इसमें पाया गया कि विकिरणों से मधुमक्खियों की प्रजनन शक्ति क्षीण हो रही है। उनके घोंसले (छत्ते) बनाने की शक्ति पर असर पड़ रहा है। जहां-जहां रेडिएशन ज्यादा होता है, वहां 70 से 90 फीसदी तक मधुमक्खियां विलुप्त हो गई हैं।
रानी मधुमक्खी के अंडे देने की क्षमता कम हुई
नर मधुमक्खी के सीमेन में आ रहा बायोकेमिकल बदलाव
रेडिएशन वाले क्षेत्रों में छत्ते बनने बंद हो गए हैं
रेडिएशन के चलते रास्ता भूल रहीं मधुमक्खियां
40 से 45 दिन का होता है जीवनकाल
एक शहद मधुमक्खी जीवन चक्र में चार मुख्य विशिष्ट चरण या चरण- अंडा, लार्वा, पिल्ला और अंततः एक वयस्क होता है। सामान्य मधुमक्खी की उम्र 40 से 45 दिन होती है। रानी मक्खी जो छत्ते के अंदर शहद उत्पन्न करती है, उसकी उम्र तीन से पांच वर्ष तक होती है। यह औसतन 2500 से 3000 अंडे प्रतिदिन देती है।
वैज्ञानिक अल्बर्ट आइंस्टाइन ने कहा था, यदि किसी कारणवश धरती से मधुमक्खियों का जीवन समाप्त होता है तो चार वर्ष के भीतर ही मानव जीवन समाप्त हो जाएगा। हालांकि, कई विशेषज्ञ उनके कथन से आज तक सहमत नहीं हैं। एक अन्य शोध रिपोर्ट में जालंधर के डीएवी विश्वविद्यालय के पू‌र्व कुलपति डॉ. आरके कोहली कहते हैं कि मैं मानता हूं कि इन पर बुरा असर पड़ा है, लेकिन मानव जीवन के खत्म होने की बात तो बचकानी लगती है। रेडिएशन के मानव जीवन और पशु-पक्षियों के जीवन पर पड़ रहे दुष्प्रभावों पर पूर्व में हुए अध्ययन बताते हैं कि मनुष्यों में रेडिएशन के चलते सिरदर्द, चिड़चिड़ापन, नींद न आना, स्मरण की समस्या, घुटनों का दर्द, हार्मोनल असंतुलन, दिल संबंधी बीमारियां तथा कैंसर की आशंका भी पाई गई। अमेरिका में रेडिएशन का मधुमक्खियों पर इतना बुरा असर पड़ा कि वे विलुप्त होने की कगार पर आ गईं, जिससे वहां का फसल चक्र बिगड़ गया और किसानों को भारी नुकसान हुआ। बाद में चीन और ऑस्ट्रेलिया से बहुत बड़े पैमाने पर मधुमक्खियों को आयात किया गया।
उपज में 25 फीसदी का फर्क
मधुमक्खी पालन से फसलों में भी परागण की क्रिया तेज होती है जिससे उद्यानिकी व वानिकी फसलों की उपज 25 प्रतिशत तक बढ़ती है। एक अन्य एनजीओ की रिपोर्ट बताती हैं कि मधुमक्खियों पर रेडिएशन के असर से केरल, बिहार, पंजाब में फसलों को भारी नुकसान देखने को मिला है। इसके बाद से ही सरकार ने कृत्रिम मधुमक्खी पालन को बढ़ावा देना शुरू किया था।
 
AD

नववर्ष मंगलमय हो
happy new year
नववर्ष मंगलमय हो

 
ताज़ा खबर
कोरोना से पहली मौत के बाद वाराणसी के गंगापुर ,बजरडीहा, मदनपुरा,लोहता क्षेत्र में कर्फ्यू
काशीवासियों ने पेश की मदद की मिसाल, 80 लाख की धनराशि दे दी दान
कोरोना की जंग में लड़ने को तैयार हैं पूर्वोत्तर रेलवे कर्मी
कोरोना के बीते 24 घंटों में 386 मामले आए सामने, अब तक 38 की मौत
अब 15 साल तक रहने वाला ही कहलाएगा निवासी,अमित शाह ने किया कश्मीर में नए डोमिसाइल नियम का ऐलान
उपनिदेशक अर्थ एवं संख्या से कमिश्नर खफा ,जवाब-तलब
भैंस का दूध 56 तथा गाय का दूध 46 रुपए प्रति लीटर ही बिके
बैंक-एटीएम नियमित रूप से खुलेंगे
वाराणसी:सिटी कमाण्ड कंट्रोल रूम 1077 बना फुल कमाण्ड कंट्रोल रूम
कोरोना पर सुप्रीम कोर्ट में बोली सरकार, करीब 23 लाख लोगों को दिया जा रहा खाना
 
 
 फोटो गैलरी  और देखे
अंतर्राष्ट्रीय
International
PM मोदी स्वागत समारोह में न्यूजीलैंड के प्रधानमंत्री श्री जॉन की का स्वागत करते हुए।
नवीन चित्र
Latest Pix
संस्कार ब्राह्मण महिला संगठन की ओर से तीज महोत्सव
मनोरंजन
Entertainment
100 करोड़ क्लब में शामिल हुई मलयालम फिल्म 'पुलीमुरुगन'
खेल
Sports
डेविड वॉर्नर की 'ताकतवर' सिक्सर ने उन्हें जमीन पर 'गिराया'
वाराणसी और आसपास
VARANASI AUR AASPAS
वाराणसी में गड्ढे या गड्ढे में बनारस
Cartoon Economic panchayat election
 वीडियो गैलरी
महेंद्र कपूर के सदाबहार गीत यहाँ सुनें
video
बाबा सहगल की वापसी, आया नया वीडियो
video
पाक से हुआ वीडियो वायरल देखे क्या कहा
video
100 किलो के ट्रेन के डिब्बों को खींचती एसयूवी कार
video
इंडिपेंडेंस डे रेसुर्जेन्से का ट्रेलर
video